अंग – अंग  में  रंग  चढ़ाया(ang ang me rang chadaya)

# होली विशेष #
विधा – गीत (सरसी छन्द)
=========
प्यारा यह मधुमास सुहावन ,
       काम तनय सब जान I
अंग – अंग  में  रंग  चढ़ाया ,
        मदन  तीर  ले  तान Il
तुम्हें  बताऊँ  कैसे  सजना ,
         मन  की अपने पीर I
होली का मनभावन उत्सव ,
         तुम बिन धरे न धीर ll
आ जाओ फिर होली खेलें ,
         भाँग  पिलाओ छान I
अंग – अंग में …   ….   …
मुझे   पड़ोसी   ऐसे   ताकें ,
         जैसे    सोना   चोर l
मला गुलाल बहुत गालों में ,
          बदन  रंग  में  बोर Il
तन  मेरा  ये  दहक  रहा  है ,
          मन भी बहका मान l
अंग – अंग में …  ….   …..
मुझे चैन मत  पड़ता साजन ,
           होली  करे   कमाल I
बुरा न मानो कह – कह सबने ,
           चोली  करदी  लाल ll
आँखें    मेरी     हुईं    शराबी ,
            बदल गई  मम तान l
अंग – अंग में …  ….   ….
हरा , लाल , नीला औ  पीला ,
            धानी   उड़े  गुलाल I
तन  मेरे   मकरन्द   टपकता ,
             भ्रमर देख तो हाल Il
यौवन  की   मदहोशी   छायी ,
              चढ़ा  प्रेम  परवान l
अंग – अंग में …    ….    ….
तुम  मुझको  मैं  तुम्हें  रंग  दूँ ,
              फिर  गायेंगे  फाग l
राधा     तेरी     राह     निहारे ,
              माधव आओ भाग Il
तुम बिन  मटकी  मेरी अटकी ,
              करो  फोड़  सम्मान I
अंग – अंग में …    ….    ….
#स्वरचित
#सन्तोष कुमार प्रजापति “माधव”
#कबरई  जिला – महोबा ( उ.प्र. )
              
(Visited 2 times, 1 visits today)