अजेय विंध्यवासिनी विनाश दुःख का करो (ajey vidhyvasini vinash dukh ka karo)-दुर्गा शंकर इजारदार

अजेय विंध्यवासिनी विनाश दुःख का करो ,
त्रिशूल धारिणी सहाय प्राण शत्रु का हरो ।।

सभी सुखी रहें यहाँ जवान हो कि वृद्ध हो ,
सदैव काम क्रोध लोभ से विचार शुद्ध हो ।।

विदेश देश हो सदा गुँजायमान भारती ,
सभी जमात एक हो करें सुजान आरती ।।

मरें नहीं अकाल मौत नौनिहाल भूख से ,
जले नहीं महान बेटियाँ दहेज दुःख से ।।

गले मिले सभी यहां कि बैर भाव छोड़ के ,
अराधना करूँ यही कि मात हाथ जोड़ के ।।

निशुम्भशुम्भनाशिनी नमो पिनाकधारिणी ,
प्रभावती नरेश्वरी अनेक शस्त्रधारिणी ।।

नमो सती जया सुधा क्षमा प्रभा शिवाप्रिया ,
नमामि कालरात्रि पार्वती नमो हरिप्रिया ।।

दुर्गा शंकर इजारदार
सारंगढ़(मौहापाली)9617457142

(Visited 7 times, 1 visits today)