अटल जी की स्मृति में समर्पित कविता – बाके बिहारी बरबीगहीया ( naam atal tha , kam atal tha )

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar

अटल जी की स्मृति में कविता 


नाम अटल था, काम अटल था,,
जीवन भर विश्वास अटल था, 
साथ अटल सामर्थ्य अटल था,,,
जीवन का सिद्धांत अटल था,,
याद करे उस महामानव को,,
आज हुई नम आँख हमारी,,
नाम था जिनका अटल बिहारी ।।
नाम था जिनका,,,,,,,,,,,
समर अटल श्मशान अटल था ,,
उनका हल अरमान अटल था,,
भेष अटल था,द्वेष अटल था,,
शांति का संदेश अटल था,,
है आज उन्ही की पुण्य स्मृति,,
याद कर रहीं दुनिया सारी ,,
नाम था जिनका अटल बिहारी ।।
नाम था जिनका,,,,,,,,,,,,,,,,,,
प्यार अटल, परमार्थ अटल था,,
देश का हर अधिकार अटल था,,
लड़ के भी जो मेल कर सके,
नफरत में भी प्यार अटल था,,
इतिहासों के अमिट पटल पर,,
दर्ज है उनकी रचना प्यारी,,
नाम था जिनका अटल बिहारी ।।
नाम था जिनका अटल ,,,,,,,,
कालजयी महा मानव था वो 
जिसका स्वाभिमान अटल था,,
सत्य थी उनकी गरिमा महिमा, 
भारत सुराज अरमान अटल था,,
स्वच्छ दक्ष  सियासत करते
 सच संग्राम अटल था,,
 अंत समय में चलना भी था,
लेकिन फिर विश्राम अटल था,,
मौत से कब तक लड़ते आखिर,
लो आ ही गई जब उनकी बारी,,
नाम था जिनका अटल बिहारी,,
नाम था जिनका अटल ,,,???


कवि बाके बिहारी बरबीगहीया



 इस पोस्ट को like करें (function(d,e,s){if(d.getElementById(“likebtn_wjs”))return;a=d.createElement(e);m=d.getElementsByTagName(e)[0];a.async=1;a.id=”likebtn_wjs”;a.src=s;m.parentNode.insertBefore(a, m)})(document,”script”,”//w.likebtn.com/js/w/widget.js”);
(Visited 2 times, 1 visits today)