अलि

0 17

विषय-अलि
विधा-दोहा

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

अलि पुष्प के पराग से,लेता है रससार।
पुष्प पुष्प पर बैठता , करे सदा गुंजार।।
🌹🌹🌹🌹
अलि करता मधुमास में,फूलों का रसपान।
कोयल मीठा गात है ,करती है गुण गान।।
🌹🌹🌹🌹
कली कली में बैठता,अलि करता मधुपान।
मस्त मगन हो घूमता,गुन गुन करता गान।।
🌹🌹🌹🌹
अलि बैठा है डाल पर,ग्रहण करे मकरंद।
नेह लुटाता फूल पर ,होय कमल में बंद।।
🌹🌹🌹🌹
डाली डाली बैठता, अलि है चित्त चकोर।
पीकर रस मदमस्त हो,करता है फिर शोर।।

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

©डॉ एन के सेठी

Leave A Reply

Your email address will not be published.