KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

यदि आपकी किसी एक ही विषय पर 5 या उससे अधिक कवितायेँ हैं तो आप हमें एक साथ उन सारे कविताओं को एक ईमेल करके kavitabahaar@gmail.com या kavitabahar@gmail.com में भेज सकते हैं , इस हेतु आप अपनी विषय सम्बन्धी फोटो या स्वयं का फोटो और साहित्यिक परिचय भी भेज दें . प्रकाशन की सूचना हम आपको ईमेल के माध्यम से कर देंगे.

आओ मिल कर योग करें हम -शिवांगी मिश्रा

0 199

आओ मिल कर योग करें हम

चेतन्य रहे अपना ये तन मन ।
आओ मिल कर योग करें हम ।।

स्वास्थ्य साधना करनी सबको
यह संदेश दिया जाए ।।
सदा हमे रहना है सुखी तो ।
आओ योग किया जाए ।।
योग करोगे दूर रहेंगे,सदा हमारे रोगों का गम ।।

आओ मिल कर योग करें हम ।।

जीवन का गर बने नियम ये ।
तो हर इक मन बच्चा हो ।।
योग को हिस्सा बना लो अपना ।
स्वास्थ्य हमेशा अच्छा हो ।।
कभी बीमारी रोग के भय से,किसी की ना हों आंखे नम ।।

आओ मिल कर योग करें हम ।।

यह कानून ना बना किसी का ।
ना ही इक ये दिवस मात्र है ।।
हम सबका ही भला है इसमें ।
अपना लो ना ये बुरा साथ है ।।
इतना इसको अपनाओ की,

कभी कही ना पाए थम ।।

चेतन्य रहे अपना ये तन मन ।
आओ मिल कर योग करें हम ।।

शिवांगी मिश्रा

Leave A Reply

Your email address will not be published.