KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

आज पर्यावरण संरक्षण की सख्त जरूरत है (aaj paryaavaran sarakshan ki sakht jarurat hai)

0 175

पर्यावरण संरक्षण की सख्त जरूरत है

दूषित हुई हवा
वतन की 
कट गए पेड़
सद्भाव के 
बह गई नैतिकता 
मृदा अपर्दन में 
हो गईं खोखली जड़ें
इंसानियत की 
घट रही समानता 
ओजोन परत की तरह
दिलों की सरिता
हो गई दूषित 
मिल गया इसमें
स्वार्थपरता का दूषित जल
सांप्रदायिक दुर्गंध ने 
विषैली कर दी हवा
आज पर्यावरण 
संरक्षण की 
सख्त जरूरत है। 

-विनोद सिल्ला©

Leave A Reply

Your email address will not be published.