आज बसंत में टूट रहे हैं(aaj basant me tut rahe hai)

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar#vidaipoem
वर्षों से जुड़े हुए कुछ पत्ते
आज बसंत में टूट रहे हैं ।
जरूरत ही जिनकी पेड़ में
फिर भी नाता छूट रहे हैं।
यह पत्ते होते तो बनती पेड़ की ताकत ।
इन की छाया में मिलती सबको राहत ।
पर सबको मंजिल तक जाना है।
सबने बनाई है अपनी-अपनी चाहत ।
इन की विदाई से डाल-डाल सुख रहे हैं।
जरूरत थी जिनकी पेड़ में
फिर भी नाता छूट रहे हैं ।
इन पत्तों से ही पेड़ में होती जान ।
आखिर पत्तों से ही पेड़ को मिलती पहचान।
यह पत्ते ही भोजन पानी हवा दिला कर ।
बनते हैं जग में महान ।
इनके बिना पेड़ के दम घुट रहे हैं ।
जरूरत थी जिनकी पेड़ में
फिर भी नाता छुट  रहे हैं ।
मानो तो जीवन की यही परिभाषा ।
हर निराशा में छुपी रहती आशा ।
इनके जगह लेने कोई तो आएगा ।
यही भरोसा और यही दिलासा।
पतझड़ के बाद नई कोपले फूट रहे हैं ।
बरसों से जुड़े हुए पत्ते
आज बसंत में टूट रहे हैं।
जरूरत थी जिनकी पेड़ में
फिर भी नाता छूट रहे हैं।
मनीभाई ‘नवरत्न’, छत्तीसगढ़
(Visited 4 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़