आज भी बिखरे पड़े हैं

” आज भी बिखरे पड़े हैं ।”
        गंगाधर मनबोध गांगुली ” सुलेख “
           समाज सुधारक ” युवा कवि “
                  9764217202

कल तक बिखरे पड़े थे ,
                               आज भी बिखरे पड़े हैं ।
अपने आप को देखो ,
                            हम कहाँ पर खड़े हैं ।।01।।

बट गये हैं लोग ,
                             जाति और धर्म पर ।
गर्व करते रहो ,
                             मूर्खतापूर्ण कर्म पर ।।02।।

महापुरुषों के महान कार्य,
                       लोगों को नजर नहीं आ रहे हैं ।
जो जिस जाति में पैदा हुए ,
                 सिर्फ वही दिवस मना रहे हैं ।।03।।

हर कोई कहता है,
            यह हमारा नहीं ,उनका कार्यक्रम है ।
महापुरुषों की महानता ,
                 उनकों दिखता बहुत कम है ।।04।।

आजादी सिर्फ नाम के रह गए,
                    गुलामी के कगार पे खड़े हैं ।
कल तक बिखरे पड़े थे,
                      आज भी बिखरे पड़े हैं ।।05।।

जातिवाद बढ़ रहा है ,
                    महापुरुषों को भी बाट रहे हैं ।
किसे यहाँ अपना कहें,
             जो अपनों का गला काट रहे हैं।।06।।

हमारी स्थिति वैसी कि वैसी है ,
                        आज भी रास्ते पे पड़े हैं ।
कल तक बिखरे पड़े थे,
                        आज भी बिखरे पड़े हैं ।।07।।

(Visited 1 times, 1 visits today)