आतंक पर कुण्डलिया (Aatank par kundaliya)

#kavita bahar# kundaliya# ramnath sahu nanaki
जल जंगल अरु अवनि पर ,
                            नर का है आतंक ।
नंगा   होकर   नाचता ,
                            कल का गंगू रंक ।।
कल  का  गंगू  रंक ,
                       नगर का सेठ कहाता ।
मानवता कर कत्ल ,
     ..                 लहू से रोज नहाता ।।
कह ननकी कवि तुच्छ ,
                       मची आपस में दंगल ।
धरती  के  ये  तत्व ,
                   बिलखते हैं जल जंगल ।।

                 ~  रामनाथ साहू ” ननकी “
               मुरलीडीह , जैजैपुर (छ. ग. )
(Visited 1 times, 1 visits today)