Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

ईश्वर पर कविता

0 11

ईश्वर (विधाता छंद )

पहाड़ों को, घटाओं को, हवाओं को बनाया है
गगन के थाल को जिसने सितारों से सजाया है
धरा की गोद में कानन सघन उपवन बसाया है
मेरे ईश्वर की महिमा है! मेरे ईश्वर की माया है

2

जहाँ सूरज को शिशु हनुमान ने मुंह मे दबाया है
दिवाकर ने जहाँ करके विनय जीवन बचाया है
जहाँ जग के लिए दिन रात का ठप्पा लगाया है
मेरे ईश्वर की महिमा है! मेरे ईश्वर की माया है

3

CLICK & SUPPORT

समुन्दर पर बड़े जलयान को जिसने चलाया है
जलधि के गर्भ से पनडुब्बियों तक को उठाया है
गगन में बिजलियों की कौंध से जग कसमसाया है
मेरे ईश्वर की महिमा है! मेरे ईश्वर की माया है

4

जिसे काशी ने मथुरा ने अयोध्या ने कमाया है
जिसे शिव ने कन्हैया राम ने मन में जगाया है
जिसे मोदी अमित योगी ने प्रण-गौरव बताया है
मेरे ईश्वर की महिमा है! मेरे ईश्वर की माया है

5

प्रफुल्लित है ह्रदय अपना सनातन धर्म छाया है
नयन ख़ुश हैं कि अब तुष्टिकरण का सर कटाया है
चहुर्दिश राष्ट्र ने दुनिया में रँग अपना जमाया है
मेरे ईश्वर की महिमा है! मेरे ईश्वर की माया है

रमेश

Leave A Reply

Your email address will not be published.