ऋतुराज बसंत

ऋतुराज बसंत
ऋतुराज बसंत प्यारी-सी आई,
पीले पीले फूलों की बहार छाई।
प्रकृति में मनोरम सुंदरता आई,
हर जीव जगत के मन को भाई।

वसुंधरा ने ओढ़ी पीली चुनरिया,
मदन उत्सव की मंगल बधाइयाँ ।
आँगन रंगोली घर द्वार सजाया,
शहनाई ढ़ोल संग मृदंग बजाया ।

बसंत पंचमी का उत्सव मनाया,
माँ शारदे को पुष्पहार पहनाया।
पुष्प दीप से पूजा थाल सजाया,
माँ की आरती कर शीश झुकाया।
शीश मुकुट हस्त वीणा धारिणी,
ज्ञान की देवी है सरगम तरंगिणी।
विमला विद्यादायिनी हंसवाहिनी,
‘रिखब’को दिव्य बुद्धि प्रदायिनी।
@ रिखब चन्द राँका ‘कल्पेश
जयपुर।
(Visited 4 times, 1 visits today)