ऋतु बसंत आ गया(ritu basant aa gya)

*ऋतु बसंत आ गया*
            —*—*—-
          बिखरी है छटा फूलों की,
          शोभा इंद्रधनुषी रंगों की,
          कोयल की कूक कर रही पुकार,
          ऋतु बसंत आ गया,
          आओ मंगल-गान करें।
महुए के फूलों की मदमाती बयार,
आम्र मंजरी की बहकाती मनुहार,
सुरमई हुए जीवन के तार,
ऋतु बसंत आ गया,
आओ मंगल-गान करें।
             महकी सी लगती है हर गली,
             कुसुमित हर्षित है हर कली,
             आनन्दित है सब संसार,
             ऋतु बसंत आ गया,
             आओ मंगल-गान करें।।
सरसों के पीले बासंती रंग से,
टेसू-पलाश की लालिमा लिए,
मौसम ने किया श्रृंगार ,
ऋतु बसंत आ गया,
आओ मंगल-गान करें।।
                   हर्ष में मग्न जनजीवन सारा,
                   पुलकित है घर आंगन प्यारा,
                   भँवरे करने लगे गुंजार,
                   ऋतु बसंत आ गया,
                   आओ मंगल-गान करें ।।     
दुःख के बाद सुख का आना,
पतझड़ के बाद बसंत का आना,
कहता है जीवन का सार,
ऋतु बसंत आ गया ,
आओ मंगल-गान करें।
———*——-*———
    पूर्णिमा सरोज
   (व्याख्याता रसायन)
      जगदलपुर(छ. ग.)
(Visited 21 times, 1 visits today)