एक चांद, मेरे चांद से , आज क्यों नाराज है(manibhai navratna)

एक चांद, मेरे चांद से , आज क्यों नाराज है ?
जरूर आज उसका, मेरे चांद से कम साज है।
शरमा के छुपा वो काला बादल का दुपट्टा ले,
उसे मेरे चांद के आगे आने में हो रहा लाज है।

ए चांद !तू फलक पर आ, आकर भले छुप जा ।
मेरे चांद को तड़पाकर ,  छुप छुप कर  ना जा।
उसका करवा  व्रत संकल्प पूरा होने दे तो  जरा
फिर लूंगा तेरी खबर,  तड़पा रहा जो आज है ।
एक चांद, मेरे चांद से……

( मनीभाई “नवरत्न”)
करवा चौथ व्रत विशेष रचना

(Visited 13 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़