KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

ऐसा मेरा गणतंत्र है (AISA MERA GANTANTRA HAI)

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar #REPUBLIC DAY#26 JANUARY

इंसानों को मानवता सिखाएं ऐसा मेरा गणतंत्र है ।
लोगों को मिलकर रहना सिखाए ऐसा मेरा गणतंत्र है ।
सब अपने सपने पूरे कर सकें ।
हर कोई अधिकारों को पा सकें।
हर डगर पर हर शहर पर हर नर नारी स्वतंत्र है।
आगे बढ़ने का हौसला बढ़ाएं ऐसा मेरा गणतंत्र है ।
दासता से हमें मुक्ति मिली है ।
सत्यमेव जयते की सुक्ति खिली है।
यही अपना कर्म रहे यही अपना मंत्र है ।
सबको एक लक्ष्य दिखाएं ऐसा मेरा गणतंत्र है।

-मनीभाई ‘नवरत्न