KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कभी इन्सां है क्या समझा नहीं था

1 178

कभी इन्सां है क्या समझा नहीं था
ख़ुदा को इसलिए पाया नहीं था

हमारा प्यार रूहों का मिलन था
फ़क़त जिस्मों तलक़ फैला नहीं था

बिताई उम्र सारी मुफ़लिसी में
मगर ईमां कभी बेचा नहीं था

अता की बज़्म को जिसने बुलन्दी
उसी का बज़्म में चर्चा नहीं था

परखने पर निराशा हाथ आती
ज़रूरत पर तभी परखा नहीं था

Leave A Reply

Your email address will not be published.

1 Comment
  1. SunzooMosam says

    Bahut achha likha hai Aapne Benaam Sahab.?❤️.Imaan kabhi becha nahi tha..bahut khoobsurat..????