करलई होगे संगी ,करलई होगे गा(karlai hoge sangi karlai hoge ga)

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar #manibhainavratna 
करलई होगे संगी ,करलई होगे गा।
छानी होगे ढलई ,करलई होगे गा ।।
पहिली के माटी घर ,मोला एसी लागे।
करसी के पानी म ,मोर पियास भागे।
मंझन पहा दन, ताश अऊ कसाड़ी म।
टेढ़ा फंसे रे ,   हमर बिरथा-बाड़ी म।
ए जमाना बदलई ,  करलई होगे गा ।
करलई होगे संगी ,   करलई होगे गा ॥
टीवी म झंपाके, लईका,सियान तको ।
रेसटीप अउ फुगड़ी खेल नंदागे सबो।
कइसे होही, हामर लइका के भविष्य ?
मोबाईल गेम म आंखी बटरागे  दूनो।
नइ होत गोठ बतरई,करलई होगे गा ।
करलई होगे संगी,   करलई होगे गा ॥
बईलागाड़ी लुकागे ,आ गय हे ट्रेक्टर ।
फटफटी कुदात हें ,सइकिल हे पंक्चर।
खरचा बढ़ा के ,बनथें अपन म सयाना।
गरीबी कार्ड के रहत लें, मनमाने खाना।
नइ होत हे कमई-धमई ,करलई होगे गा ।
करलई होगे संगी,    करलई होगे गा ।।
पहिली कस पहुना , कोई आवत नईये।
बबा ह लईका ल,  कथा सुनावत नईये।
कोठी म धान उछलत ,  भरावत नईये।
गुरुमन ल चेला हर ,     डरावत नईये।
मुर्रा लई कस होगे दवई,करलई होगे गा।
करलई होगे संगी,     करलई होगे गा ॥
(रचयिता :- मनी भाई भौंरादादर, बसना)
 मनीभाई ‘नवरत्न’, छत्तीसगढ़
(Visited 1 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़