कवि होना नहीं है साधारण-vinod silla ( kavi hona nahi hai sadharan)

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar 


नहीं है साधारण


कवि होना
नहीं है साधारण
अपेक्षित हैं उसमें
असाधारण विशेषताएं
मात्र कवि होना ही
बहुत बड़ी बात है
लेकिन फिर भी
आत्मश्लाघा के मारे
लगते हैं नवाजने
खुद को ही
राष्ट्रीय कवि
वरिष्ठ साहित्यकार के
खिताबों से
नाम के आगे-पीछे
लगा लेते हैं
ऐसे उपनाम
जिन पर स्वयं
नहीं उतरते खरे
सम्मानित होने व
करने का कारोबार
ले जाता है
पतन के रसातल में
उनसे जनकल्याण के
सृजन की
अपेक्षा करना
बेमानी है
vinod silla

-विनोद सिल्ला©

771/14, गीता कॉलोनी
नजदीक धर्मशाला व खेड़ा
डांगरा रोड़, टोहाना
जिला फतेहाबाद  (हरियाणा)
पिन कोड 125120






 इस पोस्ट को like करें (function(d,e,s){if(d.getElementById(“likebtn_wjs”))return;a=d.createElement(e);m=d.getElementsByTagName(e)[0];a.async=1;a.id=”likebtn_wjs”;a.src=s;m.parentNode.insertBefore(a, m)})(document,”script”,”//w.likebtn.com/js/w/widget.js”);
(Visited 19 times, 1 visits today)