कहानी-फेसबुक प्यार

0 12

कहानी-फेसबुक प्यार

सॉफ्टवेयर डेवलपर इंडिया निवासी नीलकमल फेसबुक चला रहा था,एक खूबसूरत युवती “हनी में”जो थाईलैंड में लोहा प्लास्टिक कम्पनी में मशीन ऑपरेटर के पद पर कार्यरत थी,को फ्रेंडरिक्वेस्ट भेज दिया।जवाब भी कन्फर्म हो गया,नीलकमल बहुत खुश था,सॉफ्टवेयर डेवलप करने का यूट्यूब वीडियो नीलकमल कमल ने शेयर किया हनी में ने लाइक किया।और कुछ संदेश भी लिखी।नीलकमल संदेश नहीं समझ सका,वह गूगल के मदद से अनुवाद किया जो ख्मेर भाषा में था।ख्मेर कम्बोडिया की भाषा है,संदेश में लिखा था बहुत अच्छा।नीलकमल और हनी में,मैसेंजर से वार्त्तालाप करते रहे।नीलकमल भारत से हिंदी अंग्रेजी में मैसेज करता,हनी में कभी ख्मेर कभी थाई में संदेश भेजती।नीलकमल हनी में की भाषा व देश को लेकर असमंजस में रहता की हनी में कहाँ की निवासी है असली भाषा कौन है?धीरे धीरे हनी में और नीलकमल की दोस्ती बढ़ती गई और व्हाट्सऐप नम्बर में चैटिंग करने लगे।नीलकमल हनी को अंग्रेजी सिखाने लगा,हनी बहुत जल्दी अंग्रेजी सिख गई,ज्यादातर बाते अंग्रेजी में होने लगी।हनी में डरती थी की फेसबुक वाले फ्राड होते हैं,नीलकमल समझाता था मैं सही हूँ इंडिया वाले अच्छे होते हैं।नीलकमल यूट्यूब में वीडियो शेयर से कुछ पैसे कमा लेता था,कुछ सॉप्टवेयर कम्पनी के वेतन से,पर सपना बड़ा देखने लगा।हनी में को वह धीरे धीरे चाहने लगा फोन में बाते करने पर बहुत चार्ज लगता था,नीलकमल हनी से वीडियो कॉल में बात करने लगा।बात चित से स्पष्ट हुआ हनी में थाईलैंड में जॉब करती है पर उसका मूल देश कम्बोडिया है,पाँच वर्ष से थाईलैंड में रहते थाई भाषा सीख गई थी पर कम्बोडिया की भाषा ख्मेर से उसको बहुत लगाव रहा।नीलकमल अपने माता पिता से भी हनी में को बाते करवाता रहा।परिवार से बाते कर हनी में,नीलकमल पर विश्वास करने लगी।वीडियो कॉल के मदद से दोनों के परिवार हिल मिल गए।एक दिन नीलकमल ने अपने प्यार का प्रपोज कर हनी में से शादी का प्रस्ताव रख दिया।महीने भर बाद हनी में के तरफ से स्वीकृति मिल गई।हनी में का भाई शादी के लिए तैयार हो गया,उसने अपने मम्मी पापा को मना लिया।नीलकमल ने हनी में को फोन किया,हलो नीलकमल कैसे हो?नीलकमल ने कहा-हनी मैं शीघ्र तुमसे शादी करना चाहता हूँ, हनी बोली “एक शर्त है।क्या?निकलमल ने कहा।हनी में-“हमारे देश में शादी के पहले लड़के वालों को कुछ रुपिया देना पड़ता है।नीलकमल-“कितना?हनी-“सात लाख।रीएल में।निलकमल तीस हजार की सैलरी वाला असमंजस में पड़ गया।हनी-“क्या सोच रहे हो नीलकमल?नीलकमल-“कुछ नहीं,हाँ रेडी हूँ।एक और शर्त है-“नीलकमल-“बोलो हर। शर्त मानूँगा।हनी-“शादी के बाद तुम्हे मेरे घर में रहना होगा कम्बोडिया में।नीलकमल ये कैसी शर्त है,हमारे देश में लड़की वाले गिफ्ट देते हैं लड़की ससुराल में रहती है लड़के के घर।और तुम्हारे यहाँ,हनी बिच में बात काटते हुए बोली-“पर हमारे देश में यही रिवाज है गिप्ट लड़के वाले देते हैं लड़के को ससुराल में रहना पड़ता है और ससुराल के सम्पत्ति में पूरा हिस्सा होता है।नीलकमल-“अजीब नियम है,”नीलकमल ने मुस्कुराकर कहा-“मुझे प्रापर्टी मिलेगा।हनी-“हाँ मिलेगा,मेरे दीदी जीजा भी घर में रहते हैं उनका भी हक़ है मेरे भईया अपने ससुराल में रहते हैं।नीलकमल ने कहा-” सब उल्टा नियम।हनी-ये रिवाज है जैसा समझो पर है तो सत्य।पर जॉब के नाम पर हम इंडिया में रह सकते हैं पर मेरे मायके के प्रापर्टी में,आप का पूरा हक रहेगा।नीलकमल-“हाँ जो रिवाज हो तुम्हारे लिए सब मंजूर है।हनी में बोली-फोन रखती हूँ आने की तैयारी करो,नीलकमल कब ? हनी-मैं घर में बात कर ली हूँ,अप्रेल में आओ हमारे कम्बोडिया में ख्मेर उत्सव है 18 को उस दिन मैरिज करेंगे चर्च में।नीलकमल-“ओके रखता हूँ।”नीलकमल सात लाख के लिए व्यवस्था में लग गया कुछ दोस्तों से उधार,कुछ सॉप्टवेयर कम्पनी से एडवांस कुछ अपने चाचा से कुछ लोन लेकर एड़ी चोटी का जोर लगा कर सारा पैसा अरेंज कर लिया।समय ने अंगड़ाई ली वक्त बीतने पर,नीलकमल फ्लाइट से थाईलैंड पहुँच गया रात के ग्यारह बजे रहे थे हनी में अपने सहेली जिंग फेंग के साथ एयरपोर्ट में खड़ी इंतजार कर रही थी।हनी ने फोन किया-“हाँ हलो हनी”नीलकमल ने कहा।हनी में ने फोन रिसीव करते नीलकमल को देख लिया और फोन काट दी।हनी अपने सहेली चिंग फेंग से बोली देखो।जूस सेंटर के पास नीलकमल है,चिंग फेंग बोली-“वो लड़का।हनी में-“हाँ वही है इंडियन नीलकमल।चिंग फेंग-“चलो उसको छोड़ो भाग जाते हैं यहाँ से।”हनी में-“,क्यों तुम्हे पसंद नहीं।चिंग फेंग-“हाँ वो पतला है और काला भी।हनि में-,नहीं,मेरे लिए इंडिया से आया है मैं उनसे प्यार करती हूँ जैसा भी हो मैं धोखा नहीं कर सकती 18 को उनके साथ मेरी शादी है मैंने अपने पद से रिजाइन भी कर दिया है।चिंग फेंग-“तू पगला गई है”तेरी मर्जी।हनी में-“जो समझ।”हनी में नीलकमल की ओर दौड़ पड़ती है,चिंग फे देखती रह जाती है।दोनों गले मिलते हैं।अगले फ्लाईट से कम्बोडिया पहुँच जाते हैं।वहां हॉटल बुक था जहाँ नीलकमल ठहरता है।हनी में मायके जा कर शादी के तैयारी में लग जाती है।दूसरे दिन हनी के मम्मी जॉन दवी पापा खैम जो,नीलकमल से मिलने आते हैं।और नीलकमल को लेकर डॉक्टर के क्लिनिक पहुंच जाते हैं।नीलकमल पापा यहां क्यों?खैम जो-“पहले ब्लड टेस्ट होगा मेडिकल सर्टिफिकेट शादी के लिए जरूरी होता है।नीलकमल-“ओके।”वहां से निकलकर ड्रेसेस शाप में जाते हैं।नीलकमल यहां क्यों?खैम जो-“शादी के लिए पांच ड्रेस किराए में लेना होगा नीलकमल -“पाँच क्यों?खैम जो-“पाँच ड्रेस बदल बदल कर विवाह करना होता है,”रिवाज है,ज्वेलरी भी किराए में लेना है।नीलकमल-अरे वाह।जैम जो-“शादी का सारा खर्चा तुम्हे देना होगा।”नीलकमल चिंता में डूब गया।सोचने लगा और मन ही मन बड़बड़ाने लगा-“इसी को कहते हैं कर्ज लेकर घी पियो।”मैरिजसर्टिफिकेट तैयार होने में विलम्ब के कारण शादी 26 अप्रेल को हुआ।रिसेप्शन में।,उबला माँस,बिना तेल कम नमक की सब्जी ब्वॉयल फूड नीलकमल को कुछ अजीब लग रहा था,हनी में ने बताया इधर,ऐसा ही भोजन बनता है तेल का प्रयोग बहुत ही कम होता है पानी के जगह लोग कोल्ड्रिंक्स लेते हैं।जैसे तैसे शादी होने के बाद नीलकमल हनी में फ्लाइट से इंडिया के रायपुर छत्तीसगढ़ पहुंचे।उन्हें रिसीव करने नीलकमल के चाचा,चाची भाई बहन पहुंचे,नीलकमल हनी में स्वागत से बहुत खुश हुए।

राजकिशोर धिरही

Leave A Reply

Your email address will not be published.