KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कालचक्र गतिशील निरन्तर होता नहीं विराम(kalchakra gatishil nirantar hota nhi viram)

कालचक्र गतिशील निरन्तर
                      होता नहीं विराम,
दुख    के   पर्वत,नदिया,नाले
               सुख का अल्प विराम।
अब तक मुझको समझ न आया
                   इस जगती का राग
रास       न आयी   इसकी  माया
                 कैसे    हो   अनुराग !
शिथिल हुआ है तन ये जर्जर
               मन भागे   अविराम
दुख के पर्वत , नदिया , नाले ,
             सुख का अल्प विराम।
छायी है बस ग़म की बदली
                 आँसू का     संवाद
साँसों    की   सरगम में गूँजे
           धड़कन का  अनुवाद।
आपाधापी    अन्दर- बाहर
               तनिक नहीं विश्राम ।
दुख के पर्वत , नदिया ,नाले,
          सुख का अल्प विराम ।
कालचक्र गतिशील निरन्तर
               होता  नहीं विराम
दुख के पर्वत, नदिया ,नाले
             सुख का अल्प विराम ।
          नीलम सिंह 

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.