कुण्डलिया की कुण्डलियाँ- कन्हैया साहू ‘अमित’

? *कुण्डलिया की कुण्डलियाँ।*?

*******************************
*कुंडलिया लिख लें सभी, रख कुछ बातें ध्यान।*
*दोहा रोला जोड़ दें, इसका यही विधान।*
*इसका यही विधान,आदि ही अंतिम आये।*
*उत्तम रखें तुकांत, हृदय को अति हरषाये।*
*कहे ‘अमित’ कविराज, प्रथम दृष्टा यह हुलिया।*
*शब्द चयन है सार, शिल्प अनुपम कुंडलिया।*

*रोला दोहा मिल बनें, कुण्डलिया आनंद।*
*रखिये मात्राभार सम, ग्यारह तेरह बंद।*
*ग्यारह तेरह बंद, अंत में गुरु ही आये।*
*अति मनभावन शिल्प, शब्द संयोजन भाये।*
*कहे ‘अमित’ कविराज, छंद यह मनहर भोला।*
*कुण्डलियाँ का सार, एक दोहा अरु रोला।*
*******************************

✍ *कन्हैया साहू ‘अमित’*✍

© भाटापारा छत्तीसगढ़ ®
सर्वाधिकार सुरक्षित सामग्री

(Visited 4 times, 1 visits today)