खण्डित जब से विश्वास हुआ है

*गीत*
खण्डित जब से विश्वास हुआ है ,
                     मनवा सिहर गया है।
जीना         दूभर     लगता    जाने
                 क्या क्या गुज़र गया है।
तिनका तिनका    जोड़   घरौंदा
              मिल जुल सकल बनाया।
ख्वाबों ,अरमानों   ने    मिल के
             पूरा         महल   सजाया ।
वज्रपात जब हुआ   नियति   का
            जीवन बिखर गया    है ।
जीना दूभर  लगता  ,        जाने
           क्या क्या गुज़र गया   है।
आशाएँ  सब धूमिल   लगतीं ,
          कैसे          राह    निकालूँ
उलझ गये सब   रिश्ते  नाते ,
          कैसे    स्वयं   सम्भालूँ !
सब्र का बंधन टूट  गया   औ
         सब कुछ बिखर  गया है ।
जीना दूभर लगता ,     जाने
        क्या क्या गुज़र गया  है !
खण्डित जब से विश्वास हुआ है
       मनवा        सिहर गया है ।
जीना   दूभर     लगता  , जाने
       क्या क्या  गुज़र गया  है !!!
     नीलम सिंह
(Visited 1 times, 1 visits today)