गंगा महिमा की गाथा पर दोहे (ganga mahima ki gatha par dohe)

.                   *गंगा महिमा*
.                     दोहा छंद
.                     १ 
पावन  पुण्य  है *सुरसरि*, भारत  में वरदान।
*देवनदी*  कहते   सभी, माता सम  सम्मान।।
.                     २ 
कहे *त्रिपथगा*  कुम्भ में,  मेला भरे विशाल।
रीत *जाह्नवी*  पुण्य की, भक्ति में,जयमाल।।
.                     ३ 
*भगीरथी*  भू   पर  बहे, भागीरथी   प्रयास।
*देवापगा*  सदा रहे, भारत  जन  की  आस।।
.                      ४ 
*मंदाकिनी* का नीर तो, अमरित पान समान।
*मोक्षदायिनी* मातु यह, भारत  का अरमान।।
.                     ५ 
*गंगा*  सबका  हित  करे,  अपना भी कर्तव्य।
साफ रखे  इस नीर को, भाग्य  बनेगा भव्य।।
.                      ६ 
पाप  विनाशी नीर को, कर मत  नर तू  गंद।
स्वार्थ मनुज ये त्याग दे,खुद को रख पाबंद।।
.                      ७ 
जन जन का सौभाग्य है,इस नदिया के तीर।
न्हाए  पीए  पाप  हर,  और  मिटे मन  पीर।।
.                       ८ 
*विष्णुपगा गंगे* सदा, शिव के धारित शीश।
केवट  की  महिमा  बढ़ी, पार   उतारे  ईश।।
.                      ९ 
*ध्रुवनंदा*  कहते  जिसे,  पाप  काटती  *गंग*।
हिमगिरि से आती सदा,निर्मल जल के संग।।
.                    १० 
*सुरसरिता सुरधुनि* कहें, *नदीश्वरी* हे *गंग*।
*गौराभगिनी हिमसुता*, बहिने  दोनो  संग।।
.                    ११ 
*त्रिपथगामिनी सुरनदी,सुरापगा* सब प्रीत।
शर्मा  बाबू  लाल  यह,  लिखे   वंदना  गीत।।
.                      
✍©
बाबू लाल शर्मा “बौहरा”
सिकंदरा, दौसा,राजस्थान

(Visited 8 times, 1 visits today)