चंद्रघंटा देवी माता(chandraganta devi mata)

विषय-चंद्रघंटा

विधा-मनहरण घनाक्षरी
       
चंद्रघंटा देवी माता
       सौम्य शांत रूप भाता
               अलौकिक स्वरूप है
                     श्रद्धा से मनाइए।।
           
सिंह की सवारी करे
       हाथों में शस्त्रास्त्र धारे
               सिर अर्द्धचंद्र घंट
                   स्वरूप निहारिये।।
             
स्वर्णिम रूप है प्यारा
     सारी दुनिया से न्यारा
            वरदान देती है माँ
                ज्योत को जलाइए।।
              
भक्तों को निर्भय करे
       दुष्टो का संहार करे
            करे माँ दुखभंजन
                भक्ति अपनाइए।।
             
दस हाथ शस्त्र धारे
      असुरों को सदा मारे
            रूप अनोखा जिनका
                  माता को मनाइए।।
              
ज्योत जले जगमग
       माता मिले पगपग
             मिलकर करे पूजा
                   मन को लगाइये।।
              
मात चंद्रघंटा मिले
     जीवन खुशी से चले
           नवदुर्गा का रूप है
                 श्रद्धा को जगाइए।।
               
शिवशंकर भामिनी
      भुक्ति व मुक्तिदायिनी
              देती अभयदान जो
                    साधना से पाइए।।


©डॉ एन के सेठी

        बाँदीकुई (दौसा)राज
(Visited 4 times, 1 visits today)