KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

चलते-चलते ,चलते चलो(chalate chalo)

197
#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar#chalatechalo

चलते- चलते ,चलते चलो।
रुकने का ना नाम लो।
रस्में अपनी निभाते हुए ,
कसमें को तुम जान लो ।
चलते-चलते ,चलते चलो ….

दूर नहीं ,तुम्हारी मंजिल है ।
जब साफ तुम्हारा दिल है।
मुट्ठी में रखो अपनी आरजू
काबलियत ही तेरी काबिल है।
चाहे तेज हो रोशनी नजरें टिकाए रखो ।
चलते चलते चलते चलो ….

राहों में आए मुश्किल घड़ियां
तो जोश से सर उठाना ।
हंसता है तुझे जमाना तो ,
शर्म से ना सिर झुकाना ।
अच्छे काम ना सही , जोकर बनकर हंसाते रहो ।
चलते चलते चलते चलो….

बाहर से चुस्ती रहे ,
अंदर से मस्ती रहे ।
तूफान हो सागर में तेरे,
शांत तेरी कश्ती रहें।
बरसे जितना भी घटाएं तुम पंछी उड़ते रहो।
चलते चलते चलते चलो…..

मनीभाई ‘नवरत्न’, 
छत्तीसगढ़, 

You might also like

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.