अन्नदाता किसान

🌹 अन्नदाता किसान 🌹➖➖➖➖➖➖➖➖ हमर किसान भाई, हमर किसान ,काम करे जियत भर ले ,जाड़ा चाहे घाम।।हमर किसान भाई.......... सुत उठ के बड़े बिहनियां!नांगर धरके जाय,मंझनी मंझना घाम पियास मा!खेत…

टिप्पणी बन्द अन्नदाता किसान में
बन पवनकुमार
kavita

बन पवनकुमार

बन पवनकुमार पवन वेग से चल तू, बन के पवनकुमार। रहे सदा अडिग अविचल,जीत ले हर बार॥ माँ भारती गुहारती,अब मुझे सजना है। हर गाँव हर शहर को, स्वर्ग-सा रचना…

0 Comments