KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

छोटी मछली

छोटी मछली


मैं  हूँ  एक  छोटी  सी  मछली।
सपनों  के   सागर  में  मचली।।
सोचा  था   सारा   सागर   मेरा,
ले आजादी का सपना निकली।।
बङे- बङे  मगरमच्छ  वहां  थे,
था आजादी का सपना नकली।।
बङी  मछली  छोटी  को  खाए,
इनका  राग  इन्हीं  की  ढफली।।
छोटी   का   न   होता    गुजारा,
बङी   खाती  है  काजू  कतली।।
सिल्ला’  इस  सोच  में  है  डूबा,
भेद नहीं  क्या  असली  नकली।।
-विनोद सिल्ला

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.