जय जवान


३०मात्रिकमुक्तक (१६,१४ पर यति)
 *जय जवान* 
*कैसे भूलेंगे पुलवामा,*
.            *ज्वार उठेगा बलिदानी।*
*नाम मिटेगा आतंकी का*,
.             *नहीं    सहेंगे   शैतानी।*
*गिन गिन कर हम ब्याज वसूलें,*
.              *तेरी हर मनमानी का।*
*आज खौलता रक्त हमारा,*
.            *तत्पर    देनें    कुर्बानी।*
…..      
*नापाक पड़ौसी आतंकी है,*
              *विश्व समूचा जान रहा।*
*भारत तेरी हर गतिविधि को,*
               *वर्षों से  पहचान रहा।*
*मत छेड़े सिंह सपूतों को,*
             *औकात देख अपनी को।*
*मातृभूमि हित मरे मार दें,*
           *भारत  का अरमान रहा।*
.                 
.            
 *वीर सैनिकों को नमन* 

*बाबू लाल शर्मा “बौहरा”*
*सिकंदरा, दौसा,राज.*

(Visited 1 times, 1 visits today)