झांसी की रानी(jhasi ki rani)

poetry in hindi, hindi kavita, hindi poem,

वाराणसी में जन्मी झांसी की रानी ।
आओ सुनाऊं तुम्हें उसकी कहानी।।
मनु, मणिकर्णिका और वो छबीली।
मोरोपन्त भागीरथी की गोद में पली।
शौक जिसका तीरंदाजी घुड़सवारी ।
आओ सुनाऊं तुम्हें उसकी कहानी।।
नाना साहब के साथ जो पली बढ़ी।
पुरुषों को भी चित कर दे ऐसे लड़ी।
देख जिसे सबको होती थी हैरानी ।
आओ सुनाऊं तुम्हें उसकी कहानी।।
सात वर्ष में कर दी गई मनु की शादी।
गंगाधर राव की बन गई जीवनसाथी।
हाय रे नियति ! क्यों विधवा हुई रानी ।
आओ सुनाऊं तुम्हें उसकी कहानी।।
अंग्रेज समझे लावारिस हुई ये झांसी।
दामोदर को पाके,पर अड़ी हुई झांसी।
अंग्रेजी मनसूबे को, फेर दी जो रानी।
आओ ,सुनाऊं तुम्हें उसकी कहानी।।
सिंहनी लक्ष्मीबाई क्रोध से गरज उठी ।
“मैं नहीं दूँगी अपनी झाँसी”  कह उठी।
विद्रोह कराके अंग्रेजों ने की मनमानी।
आओ ,सुनाऊं तुम्हें उसकी कहानी।।
सदाशिव को परास्त किया करोरा में।
नत्थे खां को ,तारे दिखा दिये दिन में।
फिरंगियों से लड़ने को जो थी ठानी।
आओ ,सुनाऊं तुम्हें उसकी कहानी।।
अब आगे जनरल ह्यू रोज की बारी ।
सर कफ़न सजाके ,रानी की तैयारी।
पीठ पे बंधा दामोदर, भिड़ गई रानी।
आओ ,सुनाऊं तुम्हें उसकी कहानी।।
जब झांसी की बागडोर,तात्या संभाले।
रानी युद्ध को कालपी से ग्वालियर चले।
जून अन्ठावन को वीरगति हुई रानी।
आओ ,सुनाऊं तुम्हें उसकी कहानी।।
लक्ष्मीबाई है महान, तोड़ दिया मिथ्या।
स्त्री होती नहीं अबला, सबको बताया।
वो वीरांगना-साहसी , साक्षात् भवानी।
आओ ,सुनायें सबको उसकी कहानी।।
✒️ मनीभाई”नवरत्न”, बसना, महासमुंद,छग
(Visited 5 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़