डाँ. आदेश कमार पंकज के दोहे ( pankaj ke dohe)

#kavitabahar#hindikavita#dr.aadesh kumar pankaj
पाई पाई जोड़ के बना खूब धनवान ।
संस्कार नहीं जानता कैसा तू नादान ।।

करता लूट खसोट है वा रे वा इन्सान ।
लालच में है घूमता बिगड़ गई सन्तान ।।

क्यों तू लालच कर रहा करता फिरता पाप ।
सोने सा अनमोल तन बना रहा अभिशाप ।।

पंकज नित दिन दीजिए संतति को संस्कार ।
ज्ञान विवेक जिनमें नहिं वह सब हैं बेकार ।।

खूब तिजोरी भर रहे कुछ नहिं आया हाथ ।
ढाई गज का कफन ही जायेगा बस साथ ।।

पंकज मेरी मानिए करें सदा सत कर्म ।
नश्वर यह संसार है सब ग्रंथों का मर्म ।।

पंकज निर्बल को कभी नहीं सतायें यार ।
उसकी छोटी हाय से मिट जाये परिवार ।।

डाँ.आदेश कुमार पंकज,
(Visited 11 times, 1 visits today)