KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

डॉ एन के सेठी जी के द्वारा माँ पर रचित कुंडलिनी छंद का रसास्वादन लें(Maa- Dr. N. k. sethi)

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

विषय-माँ
विधा-कुंडलिनी छन्द
जननी माँ माता कहें , ममता का भंडार।
ईश्वर का प्रतिरूप है,माँ जग का आधार।। 
माँ जग का आधार , माँ  है दुख मोचिनी।
माँ  की शक्ति अपार,माँ है जगत जननी।।
                  ???
माँ जैसा कोई नही, माँ का हृदय विशाल।
वात्सल्य से भरपूर है,माँ रखती खुशहाल।।
माँ रखती खुशहाल, माँ त्याग की मूरत है। 
माँ देवी का रूप ,  बड़ी  भोली  सूरत  है।।
                  ???
पूजा  वरदान है माँ , गीता  और  कुरान।
माँ का प्यारअमूल्य है,माँ सृष्टि में महान।।
माँ सृष्टि में महान , माँ  जैसा  नही दूजा।
लो माँ काआशीष,माँ भगवान की पूजा।।
                  ???
चाहे पूत कपूत हो, मात न होय कुमात।
ईश्वर ने  दी है हमे, यह अद्भुत सौगात।।
यह अद्भुत सौगात , माँ ही प्रथम गुरु है।
प्रेमऔर विश्वास,यह सृष्टि माँ से शुरु है।।
    ©डॉ एन के सेठी