तांका की महक- पद्म मुख पंडा स्वार्थी (Tanka ki mahak)

तांका की महक
____________
बेटी चाहती
माता पिता की खुशी
बहू के लिए
सास ससुर बोझ
तनातनी है रोज
बेटी हमारी
ससुराल क्या गई
सास ससुर
मांगते हैं दहेज
चाहिए कार नई
मच्छरों को क्या
पाप पुण्य से काम
चूसेंगे खून
सभी लोगों का यूं ही
जीना करें हराम
लापरवाही
होती खतरनाक
सतर्क रहें
ध्यान रखें सबका
नहीं कोई मजाक
पद्म मुख पंडा
(Visited 3 times, 1 visits today)