तांका की महक

तांका की महक


बेटी का ब्याह
हुआ धूमधाम से
हुई विदाई
बहू जला दी गई
फिर खबर आई

2
लड़का एक
मां बाप का सहारा
बेरोजगार
अशिक्षित नाकारा
बना आंखों का तारा
3
एक लड़की
सुशील सुशिक्षित
विनयशील
मायका ससुराल
हो एक जैसा हाल
4
समय पर
हुआ नहीं जो काम
मान लीजिए
गया कौड़ी के दाम
वो दशहरी आम
5
सोच बदलो
समय बदलता
जीवन भर
धोखा नहीं चलता
काम नहीं टलता

पद्म मुख पंडा , वरिष्ठ नागरिक कवि लेखक एवम विचारक ग्राम महा पल्ली जिला रायगढ़ छत्तीसगढ़

Loading

Leave a Comment