ताटंक छंद

ताटंक छंद
शिल्प–;—(16,14 मात्रा पर यति अंत में मगण)
          ——  1——
दिलों से नफ़रत को मिटाकर,
               सबको गले लगाना है |
हमें देश की खातिर अपने,
               जीना है मर जाना है |
आपस में हो भाईचारा,
               प्रेम भाव उपजाना है |
हरे भरे अपने गुलशन को,
               खुशबू से मँहकाना है |
                ——–2——–
दीन दुखी की सेवा कर के,
             खुद को धन्य बनाना है |
अपने सदकर्मो से हमको,
              आगे पुण्य कँमाना है |
भूखे को रोटी खिलवाकर,
            अपना धरम निभाना है |
आपस में मिलजुलकर हमको,
               गीत खुशी के गाना है |
———-✍
                द्वारिका पाराशर
                   20/02/2019
(Visited 2 times, 1 visits today)