KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

विश्वास अपेक्षा महत्व पर लघु कविता

0 93

विश्वास अपेक्षा महत्व पर लघु कविता

१.विश्वास

सफल रिश्ते का साँस है विश्वास
विश्वास की नींव पर
संसार टिका है साहब
कर विश्वास हर शख्स पर,
पर खुद से ज्यादा
न करो कभी किसी पर विश्वास।


२.अपेक्षा

अपेक्षा रखते हैं बहुत हम
कितने लोगों से किस हद तक
अपेक्षाएं रिश्तों को बाँधती हैं
पर जरुरत से ज्यादा
न रखो किसी से अपेक्षा।


३.महत्व

तुच्छ से तुच्छ वस्तु का
एक अपना महत्त्व होता है
किसी को न समझो महत्वहीन
पर हद से ज्यादा
न दो किसी को महत्व
विश्वास,अपेक्षा,महत्व
मेरी दृष्टि में ये तीन तत्व
बड़े अर्थपूर्ण है जीवन में।
पर जरुरत से ज्यादा हो तो
अदृश्य दरार बनता रिश्ते में।


✍सुकमोती चौहान “रुचि”
बिछिया (सा),तह- बसना,जि.- महासमुन्द,छ.ग.
मो.न.6265999951

Leave A Reply

Your email address will not be published.