KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

दहेज(beti kitni jal gyi)

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

               ##   दहेज   ##
बेटी कितनी जल गई ,
               लालच अग्नि  दहेज ।
क्या जाने इस पाप से ,
                 कब होगा परहेज ।।
कब होगा परहेज ,
              खूब होता है भाषण ।
बनते हैं कानून ,
            नहीं कर पाते पालन ।।
कह ननकी कवि तुच्छ ,
    .      रिवाजों की बलि लेटी ।
रहती  है  मायूस ,
               बैठ  मैके  में  बेटी ।।
            ~  रामनाथ साहू ” ननकी “
                 मुरलीडीह ( छ. ग. )