KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

क्यों ना सुने हम दिल की

0 37

क्यों ना सुने हम दिल की

दिल जो प्यार कर बैठा
तो क्यों ना सुने हम दिल की .
हुई जिंदगी में पहली दफा
तो क्यों ना सुने हम दिल की।

दिल तो अपना दिल है गैर नहीं ।
किस्मत आज अपनी है वक्त ये सही।
आशिकी जैसे हुई हालात
तो क्यों ना सुने हम दिल की ।
हुई जिंदगी में पहली दफा

तो क्यों ना सुने हम दिल की।
इस दिल के किस्से सुने लाखों मगर
अपना भी किस्सा बने हो जाए अगर।
दिल अपना झूम रहा जैसे बारात ।
तो क्यों ना सुने हम दिल की ।।
हुई जिंदगी में पहली दफा

तो क्यों ना सुने हम दिल की।

  • मनीभाई नवरत्न
Leave a comment