दीया मिट्टी और मन का जलाएँ -कुमार जितेन्द्र (Diya mitti aur man ka jalayen)

? *दीया मिट्टी और मन का जलाएँ *? 

                          

                                           
एक दीया मिट्टी का जलाएँ l                                                               
दूसरा दीया मन का जलाएँ ll
                                          
अन्धकार से प्रकाशित करे l                                           
मिट्टी के दीये प्रज्वलित करे ll                                                                       
ईर्ष्या,द्वेष,अहं से मुक्ति पाए l                             
मन के दीये की रोशनी पाए ll    1 
                                                     
एक दीया मिट्टी का जलाएँ l                                                               
दूसरा दीया मन का जलाएँ ll 
             
फुटपाथ हाट से दीये खरीदे l                                                                               
बूढ़ी अम्मा को मुस्कुराहट दे ll                                                   
दिखावटी वस्तुओं से दूरी करे l                       
स्वदेशी वस्तुओं का क्रय करे ll  2     
                         
एक दीया मिट्टी का जलाएँ l                                                               
दूसरा दीया मन का जलाएँ ll 
                         
कपड़े व मिठाइयाँ बंटे गरीबों में l                                                   
चेहरे पर मुस्कुराहट दिखे गरीबों में ll                                                                                                     
भूखे सोये न कोई इस दीवाली में l                 
ग़रीबों के घर दीप जले दीवाली में ll  3   
                                                                 
एक दीया मिट्टी का जलाएँ l                                                               
दूसरा दीया मन का जलाएँ ll
                           
प्रेम, मित्रता,अपनत्व का भाव रखे l                                   
प्रकाश पर्व का भाईचारा रखे ll                                   
आओ इस दीवाली पर एक प्रण ले l                                                                                         
 कोई अकेला दीप न जले दीवाली में ll 4 
                                                       
एक दीया मिट्टी का जलाएँ l                                                               

दूसरा दीया मन का जलाएँ ll                         

                                 

✍? कुमार जितेन्द्र (बाड़मेर – राजस्थान)

(Visited 1 times, 1 visits today)