देना है दातार तो

.           *देना है दातार तो ….*
.               *दोहा छंद*
.               
देना  हो  दातार  तो, दे  शबरी   सी   प्रीत।
पवन तनय सी भक्ति दे,कर्ण सरीखा मीत।।
.               
भ्राता देना लखन सा,यसुदा जैसी मात।
राम सरीखा पुत्र हो, दशरथ जैसा तात।।
.               
राधा जैसी प्रिया हो,कर्ण सरीखा मीत।
भाग्य सुदामा से भले,तानसेन से गीत।।
.               
अक्खड़ पना कबीर सा,रस जैसे रसखान।
अर्जुन  जैसी   नींद  दे,  गीता  जैसा  ज्ञान।।
.               
रिश्ते साथी कृष्ण से, बर्बरीक  से बान।
तुलसी सा वैराग्य दे, सूरदास  सा मान।।
.               
कूटनीति चाणक्य सी,विदुर  सरीखी नीति।
चन्द्र गुप्त सा बल मिले, मीरा जैसी  प्रीति।।
.               
रावण जैसा ज्ञान दे ,हठ हम्मीर  समान।
राणा जैसी आन दे, चेतक  जैसा  मान।।
.               
पन्ना  जैसा त्याग दे, चंदन  सा  बलिदान।
पृथ्वी राज चौहान सा,देना तुम अभिमान।।
.               
वीर शिवा  सी  वीरता ,सांगा  जितने  घाव।
भूषण सी कविता लिखा,सतसैया से भाव।।
.               
देना हो  सन्यास  तो, बना विवेकानंद।
दयानंद  सा धीर दे, परमहंस  आनंद।।
.               
चतुर बनाए तो प्रभो, ज्यों तेनाली राम।
दशरथ माँझी दे बना,परमारथ के काम।।
.               
साहस बोस सुभाष सा,दे मुझको दातार।
लाल बाल अरु पाल से,देना मुझे विचार।।
.               
हरिश्चन्द्र सा सत्य दे, बाली सा  वरदान।
पतंजली  सा योग दे, भामाशाही  दान।।
.               
भगत सिंह सी मौत दे, शेखर  सी  पिस्तोल।
ऋषि दधीचि सी देह दे,गुरु नानक  से बोल।।
.               
कफन तिरंगा रंग दे,जनगणमन का गान।
वतन शहीदी शान दे, बलिदानी  अरमान।।
.                     
मातृभूमि की गोद मे ,हिन्दी हिन्दुस्तान।
भारत  मेरा  देश  हो, जन्मूँ  राजस्थान।।
.               
✍✍©
बाबू लाल शर्मा “बौहरा”
सिकंदरा, दौसा,राजस्थान

(Visited 4 times, 1 visits today)