धर्म एक धंधा है ।”

“धर्म एक धंधा है ।”
        गंगाधर मनबोध गांगुली “सुलेख “
        समाज सुधारक ” युवा कवि “
                  9754217202
                   6264401511
क्या धर्म है ,क्या अधर्म है ? आज अधर्म को ही धर्म समझ बैठें हैं ।

धर्म से ही वर्ण व्यवस्था ,
                             समाज में आया है ।
धर्म ही इंसान को ,
               इंसान का दुश्मन बनाया है ।।01।।

वर्ण व्यवस्था बाद में ,
                    जाति व्यवस्था में बदल गया ।
मानव समाज को देखो ,
                  अपने आपमें बिखर गया ।।02।।

समाज सुधारक पैदा हुए ,
               समाज को सुधारने के लिए ।
समाज के बुराइयों को ,
               समाज से मिटाने के लिए ।।03।।

आज शिक्षित इंसान भी,
                 अशिक्षित जैसा सो रहा है ।
समाज की हालत देखकर ,
             समाज सुधारक रो रहा है ।।04।।

आज के इंसान में ,
                      इंसानियत नहीं है ।
आज के मानव में ,
                       मानवता नहीं है ।।05।।

लड़ रहे हैं हम ,
                  सिर्फ अपने आप से ।
रूढ़िवाद, जातिवाद ,
                       और अंधविश्वास से ।।06।।

सभ्यता और संस्कृति कहकर ,
                       बुराई को भी ढ़ो रहे हैं ।
शिक्षित हैं फिर भी ,
                अशिक्षित जैसे सो रहे हैं ।।07।।

तर्क – वितर्क लगता नहीं कोई ,
                  फिर भी धार्मिक बंदा है ।
धर्म तो एक धंधा है ,
                     मानव आज भी अंधा है ।।08।।

सिर्फ नारा लगाते हैं लोग :—-

हिन्दू , मुस्लिम, सिख ,ईसाई ।
                        आपस में हैं ,भाई – भाई ।
तो आप ही बताइए ?
                  धर्म के नाम पर क्यो होता है लड़ाई ? ।।9।।

मुझे तो लगता है :—

तर्क – वितर्क लगता नहीं कोई ,
                            फिर भी धार्मिक बंदा है ।
धर्म तो एक धंधा है ,
                    मानव आज भी अन्धा है ।।10।।

                   गंगाधर मनबोध गांगुली ” सुलेख “
                     समाज सुधारक ” युवा कवि “
                         9754217202

(Visited 1 times, 1 visits today)