धारा तीन सौ सत्तर पैतींस ए -डाँ. आदेश कुमार पंकज (Article 370-35A)

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar 



धारा तीन सौ सत्तर पैतींस ए 


******************************

सत्तर सालों में अब कोई नया उजाला लाया है ।

छप्पन इंची के सीने ने ही साहस दिखलाया है ।।

******************************

बच्चों को बंदूकें देकर जहर घोलते फिरते थे ।

केसर की क्यारी जो जन आग लगाते फिरते थे ।।

ऐसे सब गद्दारों को उनके घर में दफनाया है ।

सत्तर सालों में अब कोई नया उजाला लाया है ।।

*******************************

धारा तीन सौ सत्तर को एक क्षण में है मठ डाला ।

छप्पन भोगी लोगों का पूर्ण क्षरण है कर डाला ।।

पड़ी अँधेरी घाटी में इक सूरज नया उगाया है ।

सत्तर सालों में अब कोई नया उजाला लाया है ।।

*******************************

सरकारी खर्चें पर जो सब दूध मलाई खाते थे ।

ऐश कर रहे भारत में पर गीत पाक के गाते थे ।।

ऐसे आस्तीनी साँपों को रस्ता नया दिखाया है ।

सत्तर सालों में अब कोई नया उजाला लाया है ।।

*******************************

पैतिंस ए को खत्म किया इतिहास नया रच डाला है ।

मुफ्ती अब्दुला जैसे वाचालों के मुँह पे ठोका ताला है ।।

भारत में एक विधान रहेगा  दुनिया को समझाया है ।

सत्तर सालों में अब कोई नया उजाला लाया है ।।

*******************************

बादाम खुवानी अखरोटों के बाग पुनः मुस्काये है ।

काश्मीर की गलियों ने फिर गीत खुशी के गाये हैं ।।

कश्यप के आश्रम में अब फिर से यौवन आया है ।

सत्तर सालों में अब कोई नया उजाला लाया है ।।

*******************************

गंगा यमुना सब खुश हैं अरु झेलम भी हरषायी है ।।

केसर के फूल सजे देखो हर क्यारी मुस्कायी है ।।

मेघदूत के छन्दों को अब सबने मिलकर गाया है ।

सत्तर सालों में अब कोई नया उजाला लाया है ।।

********************************

डाँ. आदेश कुमार पंकज

डाँ. आदेश कुमार पंकज

 इस पोस्ट को like करें (function(d,e,s){if(d.getElementById(“likebtn_wjs”))return;a=d.createElement(e);m=d.getElementsByTagName(e)[0];a.async=1;a.id=”likebtn_wjs”;a.src=s;m.parentNode.insertBefore(a, m)})(document,”script”,”//w.likebtn.com/js/w/widget.js”);
(Visited 4 times, 1 visits today)