KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

नशा नाश की सीढ़ियाँ- सुकमोती चौहान (Nasha-Doha)

175
?नशा?
नशा नाश की सीढ़ियाँ,सोच समझ इंसान।
तन को करता खोखला,लेकर रहती जान।।
बड़ी बुरी लत है नशा,रहिए इससे दूर।
बेचे घर की संपदा,वह होकर मजबूर।।
यह जीवन अनमोल है,मदिरा करें न पान।
विकृत करे मस्तिष्क को,पीना झूठी शान।।
नशा पान करके मनुज,स्वर्णिम जीवन खोय।
अंग अंग फैले जहर,शीश पकड़ कर रोय।।
बिता जवानी मौज में,घर को करे न याद।
कलह बढ़ा परिवार में,धन जन हो बर्बाद।।
✍ सुकमोती चौहान रुचि
बिछिया,महासमुन्द,छ.ग.