KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

नारी तुम प्रारब्ध हो

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

*नारी तुम प्रारब्ध हो*
—————————-
  नारी तेरी आँसु टपके,
  और सागर बन जाए।
  युगों-युगों से सारी सृष्टि,
    तुझसे जीवन पाए।।
  *****************
संस्कार की धानी बन तुम,
करती हो ज्ञान प्रदान।
ममता की थपकी लोरी से,
माँ देती हो वरदान।।
*****************
जब भी कोई संकट आया,
छोंड़ के मोह का बन्धन।
अपनें कलेजे के टुकड़े को
इस देश में किया अर्पण।।
********************
इतनें सारे कष्टों कैसे,
तुम अकेले सह जाती हो।
पीकर अपनें सारे आँसु,
बाहर से मुस्काती हो।।
******************
नारी तुम प्रारब्ध हो,
हो अंतिम विश्वास।
तुम्हे छोड़ ना बन पायेगा
कोई भी इतिहास।।
******************
——-स्वरचित—–
उमेश श्रीवास”सरल”
मु.पो.+थाना-अमलीपदर
विकासखण्ड-मैनपुर
जिला-गरियाबंद( छत्तीसगढ़)
पिन-493891
मोबाईल-9406317782
             9302927785
Leave A Reply

Your email address will not be published.