KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

नारी पर आधारित मनहरण घनाक्षरी (Dr NK Sethi)

नारी जगत का सार
     नारी सृष्टि काआधार
         जननी वो कहलाती 
             मान उसे दीजिये।।
             ???
नारी ईश्वर का रूप
     उसकी शक्ति अनूप
         देती है सबको प्यार
              उसे खुश कीजिये।।
               ???
नारी हृदय विशाल
     रखती है खुशहाल
          ममता का आगार है
              दुख मत दीजिए।।
              ???
सृष्टा की अद्भुत सृष्टि
    करती वात्सल्य वृष्टि
        नारी के रूप अनेक
             हर रूप पूजिये।।
             ???
नारी में है मानवता
    त्याग और पावनता
         शक्ति का स्वरूप नारी
               विश्वास भी कीजिये।।
              ???
नारी है ईश वंदन
   नारी माथे का चंदन
        नारी नही है अबला
              सहयोग कीजिये।।
               ???
नारी है जग की आशा
    शब्द नही पूरी भाषा
        रंगों की है फुलवारी
              देवी सम पूजिये।।
              ???
माँ बहन बेटी नारी
   पत्नी है पति की प्यारी
        नारी से बड़ा न कोई
             वंदन भी कीजिये।।
??????????
         ©डॉ एन के सेठी
              बाँदीकुई(दौसा)
(Visited 30 times, 1 visits today)