निषादराज के दोहे (nishadraj ke dohe )

**निषादराज के दोहे*
(1) *संसार*
कितना प्यारा देख लो,ये अपना संसार।
स्वर्ग बराबर हैं लगे,गाँव-शहर वनद्वार।।

(2) *समय*
समय बड़ा अनमोल है,कीमत समझो यार।
समय बीत जब जायगा,फँसो नहीं मझधार।।

(3) *गति*
अपनी गति में काम को,करना अच्छा यार।
तभी सफलता हैं मिले,उन्नति  घर संसार।।

(4) *जीवन*
जीवन की इस राह पर,चलना कदम सम्हाल।
आगे   पीछे   देखना, रहे  न  कोई   काल।।

(5) *मन*
मन मेरा  पागल हुआ, मिलने  को मजबूर।
कहाँ चले हो  ऐ प्रिये, मत जा  इतनी दूर।।

(6) *अधिकार*
जन्म सिद्ध अधिकार है,पढ़ना लिखना आप।
शिक्षा से वंचित न हो, फिर  होगा  संताप।।

(7) *परिवेश*
अपना भी परिवेश हो,अच्छा सा व्यवहार।
सीखो सद् आचार को,नाम कमा संसार।।

(8) *परिधान*
अपनी इच्छा से सभी, पहनो सब परधान।
पाओगे जग  में तभी, प्यारा सा  सम्मान।।

(9) *निवेदन*
एक  निवेदन  है  यही, माँगू  तुमसे  प्यार।
कभी नहीं  करना मुझे,चाहत  से  इंकार।।

(10) *नमन*
नमन तुम्हें हे शारदे, करना  मुझको  याद।
मैं बालक  नादान हूँ, मेरी  सुन फरियाद।।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

दोहाकार:-

बोधन राम निषादराज “विनायक”

सहसपुर लोहारा,जिला-कबीरधाम (छ.ग.)

All Rights Reserved@bodhanramnishad

(Visited 7 times, 1 visits today)