KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

प्यारा तिरंगा हमारा है -श्याम कुँवर भारती (Pyara tiranga hamara hai)

 प्यारा तिरंगा हमारा है |


रहे जान से भी प्यारा तिरंगा हमारा है |
शहीदो खून से सींचा इसे सवारा है |
झुकने ना देंगे लहर रुकने ना देंगे |
पर्वतो शिरमोर हिमालय हमारा है |
चरण पखारता सागर गरजता है |
योगो युगो बहती गंगा नाम प्यारा है | 
महाराणा लक्ष्मी रवानी शान कहानी है |
आबरू वतन जंगल जीवन गुजारा है |
गर्व हमे हम भारत के है लाल |
हो पैदा वतन के वास्ते हम दुबारा है |
चाल दुश्मनों  अब चलती  नही |
दिया जवाब मुकम्मल हिन्द बहारा है |
हो मजहब कोई सब भाई समझते है |
पड़ी जरूरत वतन सबको पुकारा है |
मिली आजादी लाखो कुर्बानियों सिला |
रहे कायम यही स्वर्ग शहिदों इसारा है |
आए चाहे कितनी आंधिया ओ तूफान |
हम डिगे नहीं वतन परस्ती सहारा है |
मांग लेगा जान वतन जब भी हमारी |
रख हथेली गरदन खुद ही पसारा है |
यूं ही चलती रहे जस्ने आजादी सदा |
आंच आये माँ भारती नहीं हमको गवारा हैं |

श्याम कुँवर भारती [राजभर]
कवि ,लेखक ,गीतकार ,समाजसेवी ,
मोब /वाहत्सप्प्स -9955509286

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

टूलबार पर जाएं