KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

बहुत कठिन है वास्‍तविक होना- vinod silla (bahut kathin hai vastvik hona )

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar 


वास्‍तविक होना

बहुत कठिन है
वास्‍तविक होना
कठिन ही नहीं
असंभव है
वास्‍तविक होना
वास्‍तविक हम
या तो बचपन में होते हैं
या अपने जीवनसाथी
के पास होते हैं
असल में
जीवनसाथी के पास भी
वास्‍तविक होने में
बहुत से पहलू
रह जाते हैं
अपने बच्चों
व माता-पिता के समक्ष
पूरी तरह से
बनावटी हो जाते हैं
एक आदर्श का
आडम्‍बरपूर्वक
ओड लेते हैं आवरण
हो जाते हैं
वास्‍तविकता से
बहुत दूर
हमारे मन-मस्‍तिष्‍क में
चल रहे विचारों का
हो जाए सीधा-प्रसारण
मात्र वही कर सकता है
हमें वास्‍तविक

-विनोद सिल्‍ला©


विनोद सिल्‍ला

771/14, गीता कॉलोनी, नज. धर्मशाला
डांगरा रोड़, टोहाना
जिला फतेहाबाद (हरियाणा)
पिन कोड 125120


 इस पोस्ट को like करें (function(d,e,s){if(d.getElementById(“likebtn_wjs”))return;a=d.createElement(e);m=d.getElementsByTagName(e)[0];a.async=1;a.id=”likebtn_wjs”;a.src=s;m.parentNode.insertBefore(a, m)})(document,”script”,”//w.likebtn.com/js/w/widget.js”);

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.