KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

बहुरूपिया

129

बहुरूपिया

बकरी बनकर आया,
मेमने को लगाकर सीने से,
प्यार किया,दुलार किया!
दूसरे ही क्षण–
भक्षण कर मेमने का,
तृप्त हो डकारा,
बहुरूपिये भेड़िये ने फिर,
अपना मुखौटा उतारा!!
—-डॉ. पुष्पा सिंह’प्रेरणा’
अम्बिकापुर,सरगुजा(छ. ग.)