मदन मोहन शर्मा ‘सजल’ के दोहे (sajal ke dohe)

मदन मोहन शर्मा ‘सजल’ के दोहे

1- बाट निहारै थक गए,खंजन नैन चकोर।
मिलन आस टूटी नही, काया हुई कठोर।।

2-अधरों पर मुस्कान है, नयन धीर गंभीर।
बैठी शगुन मनावती,किसे बतावै पीर।।

3- विरह अगन के ज्वाल में, झुलसत गात अनंग।
शाम ढले जलती चिता, जलते दीप पतंग।।

4- छवि मधुरम हिय में बसी, मानो फूल सुवास।
मन चंचल भौंरा फिरै, करने को परिहास।।

5-मृगनयनी दर्पण लखै, कर सोलह श्रृंगार।
पिया मिलन की आस में, तड़फत बारम्बार।।

6- सजना है किस काम का,पिया बसै परदेश।
चंदा बादल ओट में,कुमुदिनी हृदय क्लेश।।
★★★★★★★★★★★★

*मदन मोहन शर्मा ‘सजल’*

(Visited 2 times, 1 visits today)