KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

माधुरी मंजरी- उद्योग(Madhuri manjari)

माधुरी मंजरी- उद्योग

उन्नत पुरुष निहारिए ,
    चलिए उनकी राह ।
         आस-पास को छोड़कर ,
               करिए दूर निगाह ।। 1।।
करिए दूर निगाह तो ,
      कई मिलेंगे लोग ।
           जिनके नित संपर्क से ,
                  होते हैं उद्योग ।।2।।
होते हैं उद्योग में ,
   सफल विफल परिणाम ।
        चित्त लगन एकाग्रता ,
           हासिल करो मुकाम ।।3।।
हासिल करो मुकाम जब ,
   मत करना अभिमान ।
       धन्यवाद का भाव हो ,
           बस इतना रख ध्यान ।।4।।
बस इतना रख ध्यान तू ,
    बने रहो इंसान ।
         मुदित माधुरी मंजरी ,
             मत बनना भगवान ।।5।।
माधुरी डड़सेना ” मुदिता “

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.