मानवता की छाती छलनी हुई (maanavta ki chhati chhalani huyi)

#kavita bahar#hindi poem# r r sahu
विमल हास से अधर,
नैन वंचित करुणा के जल से।
नहीं निकलती 
पर पीड़ा की नदी
हृदय के तल से।।

सहमा-सहमा घर-आँगन है, 
सहमी धरती,भीत गगन है ।
लगते हैं अब तो 
जन-जन क्यों जाने ?
हमें विकल से ।

स्वार्थ शेष है संबंधों में, 
आडंबर है अनुबंधो में ।
मानवता की छाती छलनी हुई
मनुज के छल से ।

—–R.R.Sahu
(Visited 2 times, 1 visits today)